अयोध्या :जिला महिला अस्पताल मरीजों के लिए बना ‘जानलेवा’! इलाज न मिलने से महिला की मौत

अस्पताल में दर्द से कराहती रही महिला, देखने भी नहीं पहुंचीं चिकित्सक

बस्ती की महिला को पेट दर्द होने पर रविवार को कराया था भर्ती

बिपिन तिवारी

अयोध्या।
======= बस्ती जिले के रामपुर कलवारी निवासी अखिलेश मिश्र ने पेट दर्द से परेशान 28 वर्षीय पत्नी निशा मिश्रा को महिला चिकित्सालय में रविवार को भर्ती कराया था।
आरोप है कि उनकी पत्नी लगभग सात घंटे दर्द से तड़पती रही। एक भी महिला चिकित्सक देखने नहीं पहुंची। पति बार-बार चिकित्सक को फोन कर पत्नी को देखने के लिए गिड़गिड़ता रहा। अंततः इलाज के अभाव में उस महिला को नहीं बचाया जा सका।
जानकारी 36 घंटे बाद मंगलवार को इंटरनेट मीडिया पर वायरल वीडियो से हुई। वीडियो वायरल होने के बाद से महिला चिकित्सालय में खलबली मची है।
वायरल वीडियो उसके पति का है जिसमें वह महिला चिकित्सालय में भर्ती पत्नी को सात घंटे तक चिकित्सक के न आने का आरोप लगाता है।
सीएमएस डा. रामेंद्रप्रताप वर्मा ने बताया निशा को रविवार दोपहर में भर्ती किया गया था। भर्ती फार्म सादा है, उसमें कोई विवरण नहीं है। इससे साफ है कि कहीं न कहीं चिकित्सक की गलती है। चिकित्सक से स्पष्टीकरण मांगने के साथ उच्चाधिकारियों को कार्रवाई के लिए पत्र भेजा जा रहा है।
महिला चिकित्सक का नाम डा. फरहीन परवेज बताया है। पक्ष जानने के लिए डा. फरहीन के मोबाइल काल पर रिस्पांस नहीं मिला।महिला अस्पताल का यह पहला मामला नहीं है। प्रसव के लिए गर्भवतियों से वसूली की शिकायतें आम हैं। चिकित्सालय प्रशासन उस पर अकुश लगाने में अभी तक नाकाम रहा है।जिले के अस्पतालों को चिकित्सक और संसाधनों से लैस हो गई।
घटना का वीडियो जारी होने के बाद प्रबंधन में मची खलबली फोन करने के बाद भी आरोपित चिकित्सक ने नहीं दिया रिस्पांस करने का दावे में सच्चाई कम, छलावा ज्यादा है।
मृतका के पति अखिलेश मिश्र का आरोप है कि निशा को पेट दर्द होने पर श्रीराम अस्पताल लेकर पहुंचा था, जहां पर चिकित्सक ने उसे महिला अस्पताल रेफर कर दिया। आरोप है कि दोपहर एक बजकर 45 मिनट पर महिला अस्पताल के सेप्टिक वार्ड में निशा को भर्ती किया गया। उस समय डा. फरहीन परेज की ड्यूटी थी, लेकिन उन्होंने एक बार भी नहीं देखा। शाम तक निशा की हालात ज्यादा बिगड़ गई तो रेफर करने के लिए वह डा. फरहीन को फोन करते रहे, पर वह नहीं पहुंचीं। इसकी जानकारी स्टाफ नर्स ने भी उनको दी थी। ऐसे में मजबूर पति बगैर रेफर के ही पत्नी को मेडिकल कालेज ले जाने का प्रयास करने लगा। इस बीच रात करीब साढ़े नौ बजे उसकी मौत हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *