अयोध्या में 1700 में से केवल सात कोचिंग संस्थान ही रजिस्टर्ड

दिल्ली की घटना के बाद भी नहीं चेता माध्यमिक शिक्षा विभाग

बिपिन तिवारी
लखनऊ सुपरफास्ट न्यूज़ अयोध्या

अयोध्या।
======= बीते दिनों दिल्ली में एक कोचिंग संस्थान में लगी भीषण आग के बाद भी प्रशासन सचेत नहीं हो रहा है। जिले भर में करीब 1700 से अधिक कोचिंग सेंटर संचालित हो रहे हैं। इनमें से अभी तक मात्र सात कोचिंग सेंटर के संचालकों ने ही फायर विभाग से एनओसी लेकर पंजीकरण कराया है। शेष कोचिंग संचालक पंजीयन कराने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। शिक्षा व अग्निशमन विभाग लापरवाह बने हैं।
जिले भर में करीब 1693 से अधिक कोचिंग सेंटर बिना पंजीयन व अग्निशमन विभाग से एनओसी लिए ही संचालित हो रहे हैं। इनमें जिला मुख्यालय पर ही करीब सौ से अधिक कोचिंग सेंटर चल रहे हैं। इन कोचिंग सेंटरों में कक्षा नौ से लेकर सिविल सेवा, नीट आदि की तैयारी कराई जाती है।
डीआईओएस कार्यालय में अभी तक मात्र सात कोचिंग सेंटर संचालकों ने अग्निशमन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र हासिल कर पंजीयन कराया है। अन्य जगहों पर कोचिंग सेंटर बिना विभाग से एनओसी लिए व पंजीयन कराए बिना धड़ल्ले से संचालित किए जा रहे हैं।
डीआईओएस कार्यालय से पंजीयन कराने के लिए बार-बार नोटिस भेजने के बाद भी न ध्यान नहीं दे रहे हैं। न ही प्रशासन उन पर कोई कार्रवाई कर रहा है। यह लापरवाही किसी भी दिन भारी पड़ सकती है। डीआईओएस वीरेश कुमार का कहना है कि जिले में बिना पंजीयन के चल रहे कोचिंग सेंटरों को चिह्नित किया जा रहा है। शीघ्र अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।

🛑 अधिकतर सेंटर बेसमेंट में हैं संचालित

➡️ जिला मुख्यालय पर दर्जनों कोचिंग सेंटर बेसमेंट में संचालित हो रहे हैं। कोचिंग सेंटर में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के आने- जाने के लिए सिर्फ एक रास्ता है। न प्रकाश की सही व्यवस्था है और न हवा की। कोई बड़ा घटना होने के बाद सुरक्षित बाहर निकलना मुश्किल है।

🛑 सेंटर चलाने के लिए ये नियम जरूरी

➡️ कोचिंग सेंटर चलाने के लिए नियमों को पूरा करने के बाद ही आईओएस कार्यालय में पंजीयन किया जाता है। अग्निशमन विभाग से फायर सेफ्टी का प्रमाण पत्र, शौचालय, पानी की व्यवस्था, पक्का मकान आदि होने पर कोचिंग संचालन की अनुमति दी गई जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *