जीवन गुप्ता ने केंद्र सरकार द्वारा पंजाब सहित देश के 22 राज्यों को आपदा फंड जारी करने का किया स्वागत।


भगवंत मान की पंजाब के प्रति लापरवाही का नतीजा भुगत रही पंजाब की जनता: जीवन गुप्ता

मोहित कोछड़ 

चंडीगढ़-प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा पंजाब में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 218.40 करोड़ रुपए का फंड जारी किए जाने का स्वागत करते हुए भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश महासचिव जीवन गुप्ता ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा मुख्यमंत्री भगवंत मान को बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए खुद फोन करके मदद के लिए हाथ बढ़ाया था। उन्होंने कहा कि भाजपा का एक ही लक्ष्य है ‘देश सबसे पहले व निस्वार्थ जनसेवा।‘

                जीवन गुप्ता ने पंजाब सहित देश के 22 राज्यों के लिए केंद्र सरकार द्वारा जारी की गई आपदा राशि के लिए आभार जताते हुए कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पंजाब को 218.40 करोड़, आंध्र प्रदेश को 493.60 करोड़, अरुणांचल प्रदेश को 110.40 करोड़, असाम को 40.40 करोड़, बिहार को 624.40 करोड़, छतीसगढ़ को 181.60 करोड़, गोवा को  4.80 करोड़, गुजरात को 584.00 करोड़, हरियाणा को 216.80 करोड़, हिमाचल प्रदेश को 493.60 करोड़, कर्नाटका को 348.80 करोड़, केरला को 138.80 करोड़, महाराष्ट्र को 1420.80 करोड़, मणिपुर को 18.80 करोड़, मेघालय को 27.20 करोड़, मिज़ोरम को 20.80 करोड़, ओडिशा को 707.60 करोड़, तमिलनाडु को 450.00 करोड़, तेलंगाना 188.80 करोड़, त्रिपुरा को 30.40 करोड़, उत्तर प्रदेश को 812.00 करोड़ व उत्तराखंड को 413.20 करोड़ रुपए जारी किए हैं।

                जीवन गुप्ता ने यहां जारी अपनी प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि पंजाब में बाढ़ से बदतर हुए हालातों के लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान व उनकी सरकार की लापरवाही जिम्मेवार है और ऊपर से पिछले कई दिनों से पूरे उत्तर भारत सहित पंजाब में हो रही भारी बारिश ने इस प्राकृतिक आपदा को और ज्यादा बढ़ा दिया है। भगवंत मान सरकार की घोर लापरवाही और निकम्मेपन के चलते पंजाब की जनता को जानमाल का नुकसान भुगतना पड़ा है।

जीवन गुप्ता ने कहा कि मौसम विभाग पहले से पंजाब में भारी बारिश का कभी ऑरेंज, कभी येलो तो आखिर में रेड अलर्ट तक जारी किया था, लेकिन मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस ओर ध्यान नहीं दिया और आंखें मूंदे रखी। अलर्ट के बावजूद मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस आपदा से निपटने के लिए ना तो कोई अग्रिम प्रबंध किए और ना ही कोई बैठक तक बुलाई। सरकार में मुख्य सचिव ने भी तब उच्चस्तरीय बैठक बुलाई जब पंजाब पानी में डूब चुका था।

जीवन गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान की 3 करोड़ पंजाबियों के जान-माल की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी बनती थी, जिन्होंने उन्हें भारी बहुमत से विजयी बना कर मुख्यमंत्री बनाया है। मगर अफसोस की बात है कि भगवंत मान अपनी जिम्मेदारी भूल गए। जीवन गुप्ता ने कहा कि पंजाब में बाढ़ प्रभावित लोग त्राहि त्राहि कर रहे हैं, लेकिन मुख्यमंत्री भगवंत मान अन्य चुनावी राज्यों में अपने पार्टी कार्यक्रमों में जाने को प्राथमिकता देते रहे और वहां वोट मांगने के काम में जुटे रहे।

जीवन गुप्ता ने पंजाब सरकार से मांग की कि वह पंजाब के किसानों को उनकी बर्बाद हुई फसलों, बाढ़ प्रभावित जनता को तुरंत मुआवजा प्रदान करें ताकि यह प्रभावित लोग अपने जीवन-यापन की गाड़ी को फिर से पटरी पर ला सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *