प्रभारी मंत्री ने किया पौधरोपण, अमृत सरोवर पर किया नवग्रह पौध का रोपणवृक्ष प्रकृति के अनमोल रत्न, इनकी रक्षा हम सबका दायित्व : प्रभारी मंत्री

सर्वेश शुक्ला ब्यूरो, प्रभारी लखनऊ मंडल
लखीमपुर खीरी 22 जुलाई। शनिवार को “35 करोड़ वृक्षारोपण अभियान” में प्रतिभाग करने के लिए प्रभारी मंत्री एवं प्राविधिक शिक्षा एवं उपभोक्ता मामले, उप्र के मंत्री आशीष पटेल अपने निर्धारित भ्रमण कार्यक्रम के अनुसार जनपद खीरी पहुंचे, जहां डीएम-एसपी ने पुष्प गुच्छ देकर उनका स्वागत किया।

प्रभारी मंत्री ने प्राक्कलन समिति के सभापति, विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह, विधायक योगेश वर्मा, बीजेपी जिलाध्यक्ष सुनील सिंह, अपना दल जिलाध्यक्ष राजीव पटेल, डीसीबी चेयरमैन विनीत मनार, जिपं अध्यक्ष प्रतिनिधि नरेंद्र सिंह, डीएम महेंद्र बहादुर सिंह, एसपी गणेश प्रसाद साहा की मोजूदगी में क्रमश परिषदीय विद्यालय मरखापुर, ओयल देहात गौ आश्रय स्थल, ग्राम मोहम्मदाबाद में विभिन्न प्रजाति के छायादार, फलदार, औषधीय पौधों का रोपण किया। इसके बाद प्रभारी मंत्री ने अमृत सरोवर मोहम्मदाबाद में नवग्रह पौध का रोपण किया।

प्रभारी मंत्री ने परिषदीय विद्यालय मरखापुर में नौनिहालों से संवाद किया। घर पर रोपित करने के लिए पौध भेंट किए। उन्होंने बच्चों से भी अपने सामने पौध रोपित कराएं और उनका उत्साहवर्धन किया। गो आश्रय स्थल ओयल देहात में पौधरोपण के उपरांत उन्होंने गोवंशो को गुड़, चना, फल आदि खिलाया। जिला पंचायत द्वारा संचालित अमृत सरोवर की प्रभारी मंत्री ने मुक्त कंठ से प्रशंसा की। यहां के अमृत सरोवर की सुंदरता की चर्चा वह स्वयं मुख्यमंत्री से करेंगे।

प्रभारी मंत्री आशीष पटेल ने कहा कि वृक्ष प्रकृति के अनमोल रत्न हैं। इनकी रक्षा हम सबका दायित्व है। पर्यावरण सुरक्षित रहेगा, तो हम स्वस्थ रहेंगे। पर्यावरण को नुकसान से अनेक बीमारियां, मानव जीवन व जीव सृष्टि को त्रस्त करेंगी। ऐसी स्थिति से बचने के लिए हम सभी को ‘वन है तो जीवन है, जल है तो कल है’ के संकल्प के साथ पर्यावरण की सुरक्षा एवं संरक्षण के प्रयास करने होंगे।

प्रभारी मंत्री ने एक दिन में इतनी बड़ी संख्या में पौधरोपण पर जनपद वासियों को हार्दिक शुभकामनाएं एवं धन्यवाद दिया। पौधारोपण लक्ष्य की प्राप्ति मुख्यमंत्री के कुशल मार्गदर्शन में संभव हुई है। मुख्यमंत्री की अपील को प्रदेश की जनता ने सर-माथे पर लिया और प्रदेश में इतने वृहद स्तर पर वृक्षारोपण कर इतिहास रचने का कार्य किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *