भगवंत मान सरकार प्राकृतिक आपदा के इस समय में पीडि़त लोगों की मदद के लिए हर संभव प्रयास  करने के लिए वचनबद्ध- खाद्य एवं आपूर्ति  मंत्री लाल चंद कटारूचक्क

सूबे में मोहाली, लुधियाना, पटियाला, जालंधर और अमृतसर में से जा रही है 40 हज़ार किटों की पैकिंग

वेरका मिल्क पलांट मोहाली से तीन गाड़ीयां की रवाना

मोहित कोछड़ 

साहिबज़ादा अजीत सिंह नगर –पंजाब के खाद्य, आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री लाल चंद कटारूचक्क ने आज यहां कहा कि भगवंत मान सरकार भारी बारिशों के कारण आई प्राकृतिक आपदा के कारण संकट में आए सूबे के पीडित लोगों की हर संभव मदद करन के लिए वचनबद्ध है। इसी श्रृंखला में बाढ़ पीडितों को सरकार की तरफ से 40 हज़ार फूड पैकेट तुरंत प्रभाव के साथ वितरित किए जा रहे हैं, जिसमें से अब तक 23600 पैकेट बांटे जा चुके हैं। 

आज यहां वेरका मिल्क पलांट में अलग-अलग जिलों के लिए तैयार फूड पैकेटों की तीन गाड़ीयों को रवाना करने आए, ख़ुराक और स्पलाई मंत्री लाल चंद कटारूचक्क ने बताया कि मुख्य मंत्री भगवंत मान की हिदायतें पर खाद्य, आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों विभाग की तरफ से मोहाली, लुधियाना, पटियाला, जालंधर और अमृतसर जिलों के वेरका मिल्क प्लांटों में रोज़मर्रा की इन फूड पैकेटें की पैकिंग की जाती है। उन्होंने बताया कि अलग-अलग जिलों में से आई इस मांग के लक्ष्य को कल तक पूरा कर लिया जायेगा। 

उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से अलग-अलग प्रयासो से बाढ़ पीडितों की मदद की जा रही है, किसी विभाग की तरफ से बचाव कार्य किये जा रहे हैं और किसी की तरफ से उनके हिस्से आए अन्य काम किये जा रहे हैं। खाद्य, आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों बारे विभाग को मुख्यमंत्री भगवंत मान की तरफ से तत्काल मदद के तौर पर ऐसे फूड पैकेट तैयार करने की जि़म्मेदारी दी गई थी, जिसको तनदेही के साथ निभाया गया। इन पैकेटों में ब्रैड्ड, काजू पिनीया, बिस्कुट के पैकेट, मिल्क पैकस, पानी की बोतलों, मोमबत्ती, माचिस, डिस्पोजेबल कप और चम्मच शामिल हैं। 

मंत्री लाल चंद कटारूचक्क ने बताया कि मुख्य मंत्री भगवंत मान की तरफ से अपनी कैबिनेट के हर एक मंत्री, सरकारी संस्थानों के चेअरमैनों और पार्टी के साथ सम्बन्धित विधायकों को इस संकट की घड़ी में फील्ड में जा कर पीडितों की मदद करने के आदेशों के अंतर्गत हर कोई अपनी-अपनी जि़म्मेदारी तनदेही के साथ निभा रहा है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदा में दो बातें सबसे अधिक महत्वपूर्ण होती हैं, पहली बचाव कार्य और दूसरी राहत कार्य। उन्होंने कहा कि पंजाब में समूची प्रशासकी मशीनरी इन कामों में जी- जान से लगी हुई है और सबसे पहली प्राथमिकता लोगों को इस कुदरती प्रकोप से बचाना है। 

उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से बाढ़ के कारण हुए नुकसान पाई-पाई पीडितों को मुआवज़े के रूप में दी जायेगी क्यों जो किसी की संकट की घड़ी में मदद करनी ही सब से बड़ी परख होती है। उन्होंने कहा कि वह सरकार की तरफ से पंजाब के लोगों को भरोसा दिलाते हैं कि सरकार इस मुश्किल के समय में से उनको बाहर निकालने के लिए हर संभव मदद करेगी। 

इस अवसर पर डायरैक्टर खाद्य, आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले पंजाब, घनश्याम थोरी, वेरका पलांट मोहाली के जी. एम. राजकुमार भी उनके साथ मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *